Top News

Himachal News Today - जी.बी. नगर की दवा कंपनियों पर घटिया दवाओं के मामले में एफआईआर दर्ज

Himachal News Today - जी.बी. नगर की दवा कंपनियों पर घटिया दवाओं के मामले में एफआईआर दर्ज

Himachal News Today | हिमाचल प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर में मेडिकल स्टोर्स में हाल ही में किए गए निरीक्षण से पता चला कि दोनों दवाएँ घटिया या मिलावटी थीं। नोएडा: गौतमबुद्ध नगर जिले के औषधि नियंत्रण विभाग ने हिमाचल प्रदेश के दो दवाई उत्पादकों के खिलाफ कथित तौर पर अनुपयुक्त एंटीबायोटिक दवाएँ बनाने और बेचने का मामला दर्ज किया है। मामले से अवगत अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। गौतमबुद्ध नगर में संचालित मेडिकल स्टोर्स में हाल ही में किए गए निरीक्षण से पता चला कि दो दवाएँ मोक्सफेथ और मोक्सावेरी बेकार या मिलावटी थीं और खाने के लिए ठीक नहीं  थीं। अधिकारियों ने बताया कि दोषी निर्माताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और आगे की कानूनी कार्रवाई की जा रही है। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग और गौतमबुद्ध नगर के जिला मजिस्ट्रेट मनीष कुमार वर्मा के निर्देशों के बाद हाल ही में निरीक्षण किए गए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि मेडिकल स्टोर्स और फार्मेसियों में बेची जा रही दवाएँ आवश्यक सुरक्षा मानकों के अनुरूप हों। 

Himachal News Today - Fake Medicines Caught in Himachal Pradesh while checking



जिला औषधि निरीक्षक वैभव बब्बर ने बताया कि निरीक्षण के दौरान अनुपयुक्त पाई गई दवाओं को विभाग ने जब्त कर लिया है। बब्बर का कहना है कि हाल ही में जिले के विभिन्न हिस्सो में चल रहे कई फार्मेसियों और मेडिकल स्टोरों पर छापे मारे गए। यह पता चला कि हिमाचल प्रदेश स्थित उत्पादन इकाइयों द्वारा निर्मित की जा रही दो एंटीबायोटिक दवाएँ घटिया और खाने योग्य नहीं थीं। Himachal Live News जिला औषधि नियंत्रण विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, हिमाचल प्रदेश स्थित दो फर्मों पर औषधि और प्रसाधन सामग्री अधिनियम, 1940 से संबंध रखने वाली धारा के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया है। बब्बर का कहना है कि दोनों दवाओं के नमूने एकत्र किए गए और जांच के लिए भेजे गए, जिसमें पता चला कि वे घटिया गुणवत्ता की थीं। जिला औषधि निरीक्षक ने कहा कि खाने के लिए अनुपयुक्त दवाओं का निर्माण और बिक्री करना धारा 18 का उल्लंघन है और औषधि और प्रसाधन सामग्री अधिनियम, 1940 की धारा 27 के तहत दंडनीय अपराध है।

इस वर्ष की शुरुआत में, गौतमबुद्ध नगर स्थित क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी कार्यालय ने कई आयुर्वेदिक गोलियों और चूर्णों के उत्पादन, आपूर्ति और बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था, क्योंकि ये कथित तौर पर नकली और मिलावटी पाए गए थे, जिनमें प्रेडनिसोलोन, डिक्लोफेनाक, बीटामेथासोन सहित अन्य एलोपैथिक दवाओं का मिश्रण था।

Post a Comment

Previous Post Next Post